Tuesday, 15 November 2011

ऐसा क्यों होता है.

हर पल हर लम्हा आती है तेरी याद
ख़ामोशी के हर षण में वो तेरी आवाज
ह्रदय में तेरी मौजूदगी का अहसास
क्यों होता है ऐसा हमारे साथ..???
तेरी उन्मुक्त हंसी की खनखनाहट
दिल को छु लेने वाली बाते,
छेडती है मन के तार
क्यों होता है ऐसा हमारे साथ..???
तपते सूरज की सतरंगी धूप
पतझर में फूलो का आभास
हवाओ में सारंगी की आवाज
क्यों होता है ऐसा हमारे साथ..???
पहाड़ सी जिंदगी जो लगती थी बोझ कभी
पथरीले रास्ते जो बन गए मखमली जमी
कठिनाई भी नहीं करती अब व्यथित मन
क्यों होता है ऐसा हमारे साथ...???
क्यूंकि जीवन के हर कदम पे
एक फ़रिश्ता है मेरे साथ..
जो बचाता है हर मुश्किल से और देता है
साहस..शायद इसलिए ऐसा होता है हमारे साथ

इरा टाक 

No comments:

Post a Comment