Monday, 22 April 2013

कुछ फितरत ही ऐसी है अपनी
मासूमियत दिल की जाती नहीं
तभी तो भीड़ में कुछ अपने और
गुनाहगारों में फ़रिश्ते ढूढ़ लेते हैं।।।इरा टाक (मेरी किताब "अनछुआ खवाब "से  )

No comments:

Post a Comment