Sunday, 7 April 2013

मेरी किताब अनछुआ ख्व़ाब से
गम  दिया उसने शिकायत नहीं मुझको
दर्द से न गुज़री होती इतना
तो बातों  में मेरी यूँ  शिफ़ा नहीं होता
ज़िन्दगी में कुछ भी बेवजह नहीं होता 

No comments:

Post a Comment