Wednesday, 10 April 2013

मेरी किताब अनछुआ ख्वाब से
 हदों को तोड़ के ,सैलाब से बढ़ क्यों नहीं जाते
जी नहीं सकते शान से तो मर क्यों नहीं जाते
मंजिल को पाना है तो तूफ़ान भी मिलेंगे
जब डर है इतना तो कश्ती से उतर क्यों नहीं जाते 

No comments:

Post a Comment