Sunday, 31 March 2013

न मैं तुमको समझ पायी न तुम मुझको समझ पाए
फिर भी मुहब्बत ठहरी है दरमियाँ अजब इतेफ़ाक़ है....इरा टाक 

No comments:

Post a Comment