Wednesday, 8 May 2013

रोने या किस्मत को कोसने से कभी किस्मत नहीं बदली जा सकती इसलिए कह दो बिंदास हो कर  आ जा आजमा ले ज़िन्दगी जितना आज़माना होफिर कुछ तो लिहाज़ करेगी  

No comments:

Post a Comment