Wednesday, 15 May 2013

 टूट के बिखर ही जायेगा एक दिन तन्हाई से
 खेल एकतरफ़ा कौन कब तक खेल पाता है ... इरा टाक 

No comments:

Post a Comment