Saturday, 4 May 2013

खुद को तलाश  रहा हूँ
वो वजूद जो मिटा दिया था मैंने
प्रेम में तेरे
पर तू मिटा न सका
न मैं तू हो सका न मैं ही रहा
मुश्किल  है पर नामुमकिन नहीं

No comments:

Post a Comment