Tuesday, 28 January 2014

बाग़ी हूँ मैं
अब रस्मों रिवाज़ों में
क्या बंधूंगी
इरा टाक।

No comments:

Post a Comment