Thursday, 12 January 2012

जरा देखो ये कैसे ज़माने के दस्तूर है...चुप थे तो कहते थे क्यों घुटती हो मन में
अब जब कह देते है तो कहते है कि मुहजोर है...इरा 

No comments:

Post a Comment