Wednesday, 2 December 2015

" In the Search of Dignity" Painting by Era Tak

" In the Search of Dignity" 
लहू से रचा इसने आदमी को
वही अब इसके लहू का प्यासा
पहचान पाने को खुद की
अब लहू से भी क्या डर...


Painting and Poetry by Era Tak

No comments:

Post a Comment