Sunday, 10 February 2013

ख्वाईशें अपनी रोज़ बढ़ती  ही जाती हैं
वो पूरी एक नहीं करता ये अलग बात है ..इरा टाक  ©

No comments:

Post a Comment