Friday, 26 July 2013

तू क्या सिलेगा ज़ख़्म मेरे
तेरी सिलाई इतनी महीन नही है
तू लाख कहे मुहब्बत है
पर अब मुझे तेरा यकीन नहीं है …इरम

No comments:

Post a Comment