Wednesday, 7 November 2012

मेरी किताब अनछुआ ख्वाब से

नाकामयाबियों की बस्तियों में जी रही थी मैं
तुम मिले तो कामयाबियों का आसमान मिल गया ..इरा टाक 

2 comments: