Saturday, 16 June 2012

कैसे रोक दूं मैं अपनी कलम को दोस्तों
 ये अल्फाज़ अपने ज़ख्मों पे मरहम नज़र आते है ....इरा (C) copyright

No comments:

Post a Comment