Saturday, 10 September 2011

तरीका...

जिंदगी के हर लम्हे को हँस के गुजार दे
राह में जो मिले दोस्तों में शुमार ले
दिल तोड कर तो.. वो कब के चल दिए
और हम जीते है उनकी मुहब्बत के खुमार में
सीखा है हमने अश्को को पीना ...
शरीफों के गंमो का चर्चा होता नहीं बाजार में

इरा टाक

No comments:

Post a Comment